Ghazal

[Ghazal][bleft]

Sher On Topics

[Sher On Topics][bsummary]

Women Poets

[Women Poets][twocolumns]

आईना देख के बोले ये संवरने वाले - आशा भोसले - जगजीत सिंह - निदा फ़ाज़ली - ग़ज़ल लिरिक्स

Aaina dekh ke bole ye sanwarne wale,  Asha Bhosle, Jagjit Singh - Nida Fazli - Ghazal -Lyrics

Album -: Dil Kahin Hosh Kahin
Lyricist -: Nida Fazli
Singer -: Asha Bhosle,  Jagjit Singh



Aaina-dekh-ke-bole-ye-sanwarne-wale-Jagjit-Singh-Nida Fazli-Ghazal-Lyrics

आईना देख के बोले ये संवरने वाले
अब तो बेमौत मरेंगे मेरे मरने वाले.

देख के तुमको होश में आना भूल गए
याद रहे तुम और ज़माना भूल गए

जब सामने तुम आ जाते हो 
क्या जानिये क्या हो जाता है

कुछ मिल जाता है कुछ खो जाता है 
क्या जानिये क्या हो जाता है

चाहा था ये कहेंगे सोचा था सोचा था वो कहेंगे
आए वो सामने तो कुछ भी ना कह सके
बस देखा किये उन्हें हम

देख कर तुझको यकीं होता है 
कोई इतना भी हसीं होता है
देख पाते हैं कहां हम तुमको 
दिल कहीं होश कहीं होता है.

आ कर चले न जाना ऐसे नहीं सताना
दे कर हँसी लबों को आँखों को मत रुलाना
देना न बेकरारी दिल का करार बनके
यादों में खो न जाना तुम इंतज़ार बन के

भूल कर तुमको न जी पाएंगे
साथ तुम होगी जहां जाएंगे
हम कोई वक़्त नहीं हैं हमदम

जब बुलाओगे चले आएंगे.

जब सामने तुम...

हां हां जब सामने तुम , आ जाते हो
क्या जानिये क्या हो जाता है
कुछ मिल जाता है , कुछ खो जाता है

क्या जानिये क्या हो जाता है.


Aaina dekh ke bole ye sanwarne wale,  Asha Bhosle, Jagjit Singh - Nida Fazli - Ghazal -Lyrics, आईना देख के बोले ये संवरने वाले - आशा भोसले - जगजीत सिंह - निदा फ़ाज़ली - ग़ज़ल लिरिक्स, Filmi Ghazal Lyrics,


कोई टिप्पणी नहीं: